मंगळवार, १७ जुलै, २०१२

सुधारित तंत्राने वाढवू या बीटी कपाशीची उत्पादकता...

अधिक उत्पादनासाठी महत्त्वाची सूत्रे - ध्यम ते खोल काळी जमीन (50 ते 90 सें.मी. खाली), जमिनीचा सामू 6.5 ते 8.5 असणाऱ्या जमिनीत लागवड करावी. हलक्‍या जमिनीत (25 सें.मी. खोली) लागवड करू नये. कोरडवाहूत मॉन्सूनचा पाऊस 75 ते 100 (3 ते 4 इंच) मि.मी. झाल्यावर लागवड करावी. दोन तासांतील आणि झाडांतील अंतर विदर्भासाठी 90 ु 45 सें.मी., मराठवाड्यात 120 ु 45 सें.मी. तर ओलितासाठी 150 ु 30 सें.मी. अशी शिफारस आहे. बॅगेसोबतचे नॉन बीटी बियाणे शेताच्या चारही बाजूला किमान दोन-तीन ओळी पेराव्यात. तीन वर्षातून एकदा शेवटच्या वखरणीच्या वेळी हेक्‍टरी 5 टन चांगले कुजलेले शेणखत किंवा 3 टन गांडूळ खत शेतात टाकून सारखे पसरवून घ्यावे. रासायनिक खताची मात्रा माती परीक्षण अहवालानुसार द्यावी. सूक्ष्म अन्नद्रव्यांची कमतरता ओळखून त्यांचा वापर हवा. रासायनिक खताची मात्रा- हेक्‍टरी विदर्भः कोरडवाहू- 60ः30ः30 किलो एनपीके (नत्र, स्फुरद, पालाश) ओलित- 100ः50ः 50 किलो एनपीके - कोरडवाहू- 120ः60ः60 किलो एनपीके ओलीत - 150ः75ः75 किलो एनपीके संपूर्ण स्फुरद आणि पालाश आणि अर्धे नत्र पेरणीवेळी, उरलेले अर्धे नत्र पेरणीनंतर 30 दिवसांनी द्यावे. ओलिताखाली नत्र तीन वेळा विभागून द्यावे. स्फुरदासाठी सिंगल सुपर फॉस्फेटचा वापर करावा कारण यात 12 टक्के गंधक असल्याने सरकीत तेलाचे प्रमाण वाढविण्यास मदत करते. तण व्यवस्थापन पीक व तण यांच्यातील स्पर्धा सुरवातीच्या 60 दिवसांपर्यंत. तण नियंत्रणासाठी दोन डवरणी आणि एक निंदणी गरजेची. तणनाशके- उगवणपूर्व- पेंडिमिथॅलीन (30 ईसी)- 50 मि.लि. प्रति 10 लिटर पाणी- पेरणीच्या दिवशी किंवा पेरणीनंतर दुसऱ्या दिवशी. त्यानंतर डवरणी करावी. सतत पावसाचे दिवस असल्यास पेरणीनंतर 20 ते 40 दिवसांपर्यंत क्विझालोफॉप इथाईल (5 ईसी)- 20 मि.लि. प्रति 10 लिटर पाणी वापरून गवत वर्गीय तणांचे व्यवस्थापन करता येते. सर्वच तणे या उपायांतून नियंत्रित होत नसल्याने फवारणीनंतर 20-25 दिवसांनी हलकी निंदणी किंवा डवरणी करावी. पाणी व्यवस्थापन विदर्भात कोरडवाहू स्थितीत रुंद वरंबा सरी पद्धतीवर टोकणी करावी. जुलै ते सप्टेंबर काळात पावसात 10-15 दिवसांचा खंड पडतो. त्यामुळे सुरवातीपासून पावसाचे पाणी मुरेल असे व्यवस्थापन करावे. त्यासाठी पेरणीवेळी कुजलेले शेणखत अथवा गांडूळ खत द्यावे. उताराला आडवी नांगरटी, पेरणी करावी किंवा पावसाचे पाणी मुरवण्यास 20 ु 20 मीटर चौकोनी वाफे नांगरटीने तयार करावे. सोपा उपाय म्हणजे पीक 30 दिवसांचे झाल्यावर डवऱ्याच्या जानकुड्याला दोरी बांधून सऱ्या पाडाव्या. त्यामुळे पावसाचे पाणी मुरवण्यास आणि जास्तीचे पाणी काढून टाकण्यास मदत होईल. कपाशीच्या दोन तासांत हिरवळीचे पीक बोरू पेरावे. 30 दिवसांनी कापून त्याचा वापर केल्याने मल्चिंग होऊन ओलावा टिकविण्यास मदत होते. एकात्मिक कीड नियंत्रणातील महत्त्वाचे मुद्दे प्रमुख किडी - फूलकिडे, तुडतुडे, पांढरी माशी, पिठ्या ढेकूण, मावा, लाल कोळी, बोंडअळ्या. कपाशीभोवती मका, चवळी, झेंडू, एरंडी अशा सापळा पिकाची पेरणी रसशोषक किडी व बोंड अळ्यांसाठी आर्थिक नुकसानीच्या पातळीवर आधारित रासायनिक कीटकनाशकांचा वापर 5 टक्के निंबोळी अर्काची फवारणी. (साधारणपणे 105 दिवसांनंतर एकदा). ट्रायकोग्रामा टॉयडीया बॅक्‍टेरी हे परोपजिवी कीटक शेतात सोडावेत. (साधारणपणे 115 दिवसांनंतर एकदा). या बोंडअळ्या व झाडाचा कीडग्रस्त भाग हाताने गोळा करून नष्ट करावा. पांढऱ्या माशी नियंत्रणासाठी पिवळे चिकट सापळे- हेक्‍टरी 10 ते 12 मिलीबगचा प्रादुर्भाव सुरवातीला शेताच्या कडेकडेच्या झाडांवर व कमी क्षेत्रात होतो. तेव्हा केवळ प्रादुर्भावग्रस्त भागावरच कीेटकनाशकाचा वापर करावा. संपूर्ण शेतातील पिकावर फवारणी करण्याची गरज नाही. त्यामुळे पिठ्या ढेकणाचा प्रसार रोखू शकतो. आर्थिक नुकसानीची पातळी मावा - सरासरी 10 कीटक प्रति पान किंवा 10 ते 20 टक्के प्रादुर्भावग्रस्त झाडे. तुडतुडे - सरासरी 2 ते 3 प्रतिपान. फूलकिडे - सरासरी 10 प्रतिपान. पांढरी माशी - सरासरी 8 ते 10 प्रौढ माशा किंवा 20 पिले प्रतिपान. प्लॅस्टिकच्या कपातील रोपे कामी आली कपाशी लागवडीतील मूळ रोपे आणि त्यातील नांग्या भरल्यानंतरच्या रोपांच्या वाढीतील तफावत कमी करण्यासाठी एका शेतकरी महिलेने मागील वर्षी प्लॅस्टिक कपांत रोपे तयार करून योग्य कालावधीत नांगे भरून घेतले. सौ. शालूबाई जानकीराम पाटील असे त्यांचे नाव असून त्या वावडदा (जि. जळगाव) गावच्या आहेत. अनेकवेळा उगवणक्षमता, पाण्याचा ताण, किडी-रोगांच्या प्रादुर्भावामुळे रोपमर होऊन एकरी झाडांची संख्या कमी होते. वेळीच नांग्या भरल्या न गेल्यास उत्पादकतेवर विपरीत परिणाम होतो. हे लक्षात घेऊन सौ. पाटील यांनी शेतात बियाणे टोकणीच्या बरोबरीने प्लॅस्टिकच्या कपात रोपे तयार केली. रोपे 10 ते 15 दिवसांच्या आता नांगे भरणीसाठी वापरली गेल्याने एकरी अपेक्षित रोपांची संख्या राहिली. रोपांची योग्यवेळेत वाढ झाली. त्यांच्या म्हणण्यानुसार काळ्या जमिनीत रोप मरण्याचे प्रमाण जास्त असल्याचे दिसते. लागवडीनंतर 10 ते 15 दिवसांत नांग्या भरायचो; परंतु शेतातील लागवडीची रोपे आणि नांग्या भरलेली रोपे यांच्या उंचीत, वाढीत एकसारखेपणा नव्हता. याचा उत्पादनावरही परिणाम व्हायचा. यावर पर्याय म्हणून रोपनिर्मितीसाठी 30 रुपये शेकडा प्रमाणे पाणी पिण्याचे 500 प्लॅस्टिकचे कप विकत आणले. त्यात लागवड करावयाच्या शेतातील माती आणि चांगले कुजलेल्या शेणखताचे मिश्रण भरले. शेतात लावण केली व दुसऱ्या दिवशी कपातही प्रत्येकी एक बी टोकले. झारीने पाणी दिले. रोपांना उन्हाचा त्रास होऊ नये म्हणून शेडनेटद्वारे सावली तयार केली. त्यानंतर या रोपांना रोज सकाळी व संध्याकाळी थोडे थोडे पाणी दिले. सुदैवाने प्रयोगाच्या वर्षी शेतातील बियाण्यांची उगवण चांगली झाल्याने मरीचे प्रमाण कमी होते; परंतु ज्या ठिकाणी मर झाली, तेथे जूनच्या दुसऱ्या आठवड्यात नांगे भरण्यासाठी कपातील रोपांचा वापर केला. ही रोपेही तरारून येऊन प्रथम लावलेल्या रोपांसारखीच दिसत होती. सूर्यप्रकाश, खेळती हवा आणि पाणी या गोष्टींना महत्त्व देऊन अंबोडा (जि.यवतमाळ) येथील प्रयोगशील शेतकरी अमृत दादाराव देशमुख यांनी बीटी कपाशीची शेती यशस्वी करण्याचा प्रयत्न केला आहे. त्यांनी केलेल्या पट्टा पध्दतीच्या प्रायोगीक शेताला असंख्य शेतकऱ्यांनी भेटी दिल्या आहेत. मागील खरिपात (2011-12) त्यांनी 4 ु 4 ु 8 फूट अंतरावर कापूस घेतला. दोन झाडांमधील अंतर एक फूट ठेवले. गेल्या तीन वर्षांत एकरी 22 ते 28 क्विंटलपर्यंत उत्पादन त्यांना मिळाले आहे. गटशेतीतून उत्पादन वाढले जालना जिल्ह्यातील 19 गावांत गटशेती विस्तारली आहे. कृषी विद्यापीठाचा सल्ला, ठिबक सिंचन व व्यवस्थापन यातून पूर्वी एकरी पाच क्विंटल उत्पादन घेणाऱ्या गटशेतीतील अनेक शेतकऱ्यांना 15-20 क्विंटल उत्पादन मिळाले. पाण्याचे नियोजन - हे शेतकरी पावसाळ्यात विहीर पुनर्भरण करून शक्‍य तेवढे पाणी विहिरीत साठवतात. मेपर्यंत पाण्याची पातळी टिकवून ठेवणे अवघड असल्याने विहिरीतील पाण्याचा अंदाज घेऊन ठिबकद्वारे कापसाच्या किती क्षेत्राला पाणी देता येईल याचे नियोजन करून लागवड होते. प्रसंगी टॅंकरद्वारे पाणी विहिरीत टाकले जाते. लागवडीनंतर एक-दीड महिना पाऊस आलाच नाही, तर या पाण्यावर कापूस जगविता येतो. ठिबकमुळे लागवड मे अखेर ते जून दहापर्यंत होते. "लाल्या' विकृतीचे नियंत्रण 1) पानांतील हरितद्रव्य नष्ट होऊन अँथोसायनीन हे लाल रंगद्रव्य तयार होते. त्यामुळे पाने लाल दिसतात. नत्र व मॅग्नेशिअम या अन्नद्रव्यांच्या कमतरतेमुळे होणारा हा परिणाम आहे. 2) हलकी जमीन, जमिनीत नत्राचे प्रमाण कमी होणे, रात्रीच्या वेळी अत्यंत कमी तापमान, पिकावर फुलकिडे, लाल कोळी तसेच दहिया, अल्टरनेरिया रोगांच्या प्रादुर्भावामुळे पाने लाल पडतात. व्यवस्थापन : 1) दोन टक्के युरियाची (200 ग्रॅम प्रति दहा लिटर पाणी) फवारणी. त्यामुळे नत्राचे प्रमाण वाढून पाने हिरवी होतील, तसेच नवीन पाने फुटण्यास मदत होईल. 2) रसशोषक किडींसाठी शिफारशीप्रमाणे कीटकनाशकांचा वापर. 3) लाला कोळींच्या नियंत्रणासाठी 80 टक्के विद्राव्य गंधक 30 ग्रॅम प्रति दहा लिटर पाण्यात मिसळून फवारणी. 4) दहिया रोगाचा प्रादुर्भाव आढळल्यास कार्बेन्डाझिम 20 ग्रॅम प्रति दहा लिटर पाण्यात मिसळून फवारणी.

२ टिप्पण्या:

  1. पूर्ण रूप से प्राकृतिक चिकित्सा
    स्विट्ज़रलैंड के प्राकृतिक जंगलो में २०० साल पुराने एप्पल के पेड़ है जिसके एप्पल काटने बावजूद भी काले नही पड़ते और 3 1/2 महीनो तक फ्रेश रहते है इसका कारण जानने के लिए शोध किया गया स्विट्ज़रलैंड की Mibelle Biochemistry Lab में. शोध में पाया गया की इस Malus Domestica Apple में वही Embryonic stem cells है जो गर्भ में पल रहे बच्चे की नाड़ में होता है , जो माता से गर्भ में बच्चे से जुड़ा होता है. नाड़ में वो Embryonic stem cells होते है जिससे गर्भ में पूर्ण बच्चे का विकास और उसके अवयवो का निर्माण होता है .आज भारत में रिलायंस नवजात बच्चो की stem cells की नाड़ जन्म के बाद सुरक्षित रखने का काम कर रही है.ताकि उस बच्चे को बड़े होने पर यदि कोई बीमारी होती है तो उस बच्चे की नाड़ जो सुरक्षित रखी गयी है उसमे से Embryonic stem cells निकालकर उसके शरीर में डाल सके क्योकि Embryonic stem cells में इतनी ताकत होती है की उससे उसी व्यक्ति के पूर्ण अवयव या कह सकते है की उसीका पूर्ण शरीर बनाया जा सकता है. आप समज सकते है की बच्चे की नाड़ सुरक्षित रखने का काम रिलायंस कितनी सफलता पूर्वक कर रही है. क्योकि stem cells सुरक्षित preserve करने का खर्च काफी ज्यादा है और इस काम की ब्रांड अम्बेसडर ऐश्वर्या राय बच्चन है उन्होंने अपनी बच्ची आराध्या बच्चन की नाड़ Embryonic stem cells सुरक्षित करके रखी है. हर व्यक्ति की नाड़ सिर्फ उसी के लिए उपयोग में लायी जा सकती है क्योकि सभी का DNA अलग अलग है
    अब जिनके पास अपनी नाड़ अम्ब्रियनिक स्टेमसेल्स सुरक्षित करके रखी हुई नहीं है उनके लिए क्या?
    इसीलिए Embryonic stem cells का रिसर्च किया गया जो सभी मानव जाती को बिमारिओ से मुक्त कर सके और नतीजा निकला स्विट्ज़रलैंड के Malus Domestica Apple में. इसके स्टेमसेल्स Embryonic stem cells है और इसके पेड़ में खुद को ठीक HEAL करने की अद्भुत क्षमता है. Mibelle Biochemistry Lab को इसमें सफलता मिली और नयी डबल स्टेमसेल्स थेरेपी सामने आई जिससे खराब हो चुके सेल्स का, अवयवो का पुनः निर्माण होता है. यह आज तक की सबसे बड़ी खो Malus Domestica Apple से Embryonic stem cells निकालकर साथ में Solar Vitis Grape stem cells, Acai berry और Blue berry मिलायी गयी जो Nutrition का नैसर्गिक भण्डार है. इसे मिलाने की वजह यह है की नए सेल की निर्मिति और पोषण के लिए भरपूर Nutrition की आवश्यकता होती है और शोध में यह पाया गया की , Acai berry के निरंतर सेवन से , AMAZON के आदिवासी १२५ से १५० साल तक जीते है . इसी कारण इसका सीधा फायदा आपको आपकी जीवन आयु बढ़ाने में होगा. जो की साइंटिफिक तथ्य है.

    Double Stemcell 134 से भी ज्यादा बीमारियो पर पूर्ण रूप से कारगर है उन में से कुछ मुख्य बीमारियो से काफी अधिक संख्या में मानव जाती पीड़ित है
    Double Stemcell द्वारा आपको पूर्ण रूप से इन बीमारियो से निदान मिलेगा. शोध से पता चला है की Double Stemcell का सेवन करने से मनुष्य के शरीर के 80% stem cells और Regenerate होते है. ( वो भी सिर्फ 0.01 डबल स्टेमसेल्स के सेवन से )
    डबल स्टेमसेल्स शरीर को Vitality , u के cells को सुरक्षा , बाहरी वातावरण और Activate तनाव से बचाव और बढाती उम्र के प्रभाव से बचाता है और स्किन को Younger बनाता है .
    यह Anti-aging और पूर्ण रूप से सारे cells का regeneration करता है.
    आपके अवयवो के बेकार हो गए सेल्स का पुनः निर्माण करता है. जिससे आपके अवयव पूर्णरूप से ठीक होकर ठीक से काम करने लगते है और बिमारी का नामोनिशान मिट जाता है.
    Brain problems, Cancer, Diabetes जैसी अन्य सभी गंभीर बीमारियो से मुक्ति पाने के लिए Double Stemcell पूर्ण रूप से कारगर है. आप खुद ही इसके सेवन से 72 घंटो में बदलाव महसूस करेंगे. Diabetes से सड़ चुके घाव के कारण पैर काटने पड सकते थे पर Double Stemcell के सेवन से 48 घंटो में घाव भरने की प्रक्रिया शुरू हो गयी और रुग्ण पैर कटवाने से बच गया तथा Diabetes के कई रोगियों को इन्सुलिन लेने की आवश्यकता ख़त्म हो गयी. जिन्हे Heart disease है उनके Heart मजबूत होकर फिर अच्छी तरह कार्य करने लगे और वे सभी रुग्ण ऑपरेशन से बच गए. अभी वे Double Stemcell के साथ अपना स्वस्थ जीवन व्यतीत कर रहे है.
    अब आपको ही सोचना है की हमेशा महँगी गोलिया और महँगी फीस देकर बिमारी के साथ आपको जीना है या फिर Double Stemcell के साथ रोगमुक्त होकर आपको स्वस्थ जीवन जीना है.
    निःसंकोच होकर हमें निचे दिए हुवे नम्बरो पर अपना नाम और पता SMS करे. call & SMS : +919011990055

    प्रत्युत्तर द्याहटवा
  2. पूर्ण रूप से प्राकृतिक चिकित्सा
    स्विट्ज़रलैंड के प्राकृतिक जंगलो में २०० साल पुराने एप्पल के पेड़ है जिसके एप्पल काटने बावजूद भी काले नही पड़ते और 3 1/2 महीनो तक फ्रेश रहते है इसका कारण जानने के लिए शोध किया गया स्विट्ज़रलैंड की Mibelle Biochemistry Lab में. शोध में पाया गया की इस Malus Domestica Apple में वही Embryonic stem cells है जो गर्भ में पल रहे बच्चे की नाड़ में होता है , जो माता से गर्भ में बच्चे से जुड़ा होता है. नाड़ में वो Embryonic stem cells होते है जिससे गर्भ में पूर्ण बच्चे का विकास और उसके अवयवो का निर्माण होता है .आज भारत में रिलायंस नवजात बच्चो की stem cells की नाड़ जन्म के बाद सुरक्षित रखने का काम कर रही है.ताकि उस बच्चे को बड़े होने पर यदि कोई बीमारी होती है तो उस बच्चे की नाड़ जो सुरक्षित रखी गयी है उसमे से Embryonic stem cells निकालकर उसके शरीर में डाल सके क्योकि Embryonic stem cells में इतनी ताकत होती है की उससे उसी व्यक्ति के पूर्ण अवयव या कह सकते है की उसीका पूर्ण शरीर बनाया जा सकता है. आप समज सकते है की बच्चे की नाड़ सुरक्षित रखने का काम रिलायंस कितनी सफलता पूर्वक कर रही है. क्योकि stem cells सुरक्षित preserve करने का खर्च काफी ज्यादा है और इस काम की ब्रांड अम्बेसडर ऐश्वर्या राय बच्चन है उन्होंने अपनी बच्ची आराध्या बच्चन की नाड़ Embryonic stem cells सुरक्षित करके रखी है. हर व्यक्ति की नाड़ सिर्फ उसी के लिए उपयोग में लायी जा सकती है क्योकि सभी का DNA अलग अलग है
    अब जिनके पास अपनी नाड़ अम्ब्रियनिक स्टेमसेल्स सुरक्षित करके रखी हुई नहीं है उनके लिए क्या?
    इसीलिए Embryonic stem cells का रिसर्च किया गया जो सभी मानव जाती को बिमारिओ से मुक्त कर सके और नतीजा निकला स्विट्ज़रलैंड के Malus Domestica Apple में. इसके स्टेमसेल्स Embryonic stem cells है और इसके पेड़ में खुद को ठीक HEAL करने की अद्भुत क्षमता है. Mibelle Biochemistry Lab को इसमें सफलता मिली और नयी डबल स्टेमसेल्स थेरेपी सामने आई जिससे खराब हो चुके सेल्स का, अवयवो का पुनः निर्माण होता है. यह आज तक की सबसे बड़ी खो Malus Domestica Apple से Embryonic stem cells निकालकर साथ में Solar Vitis Grape stem cells, Acai berry और Blue berry मिलायी गयी जो Nutrition का नैसर्गिक भण्डार है. इसे मिलाने की वजह यह है की नए सेल की निर्मिति और पोषण के लिए भरपूर Nutrition की आवश्यकता होती है और शोध में यह पाया गया की , Acai berry के निरंतर सेवन से , AMAZON के आदिवासी १२५ से १५० साल तक जीते है . इसी कारण इसका सीधा फायदा आपको आपकी जीवन आयु बढ़ाने में होगा. जो की साइंटिफिक तथ्य है.

    Double Stemcell 134 से भी ज्यादा बीमारियो पर पूर्ण रूप से कारगर है उन में से कुछ मुख्य बीमारियो से काफी अधिक संख्या में मानव जाती पीड़ित है
    Double Stemcell द्वारा आपको पूर्ण रूप से इन बीमारियो से निदान मिलेगा. शोध से पता चला है की Double Stemcell का सेवन करने से मनुष्य के शरीर के 80% stem cells और Regenerate होते है. ( वो भी सिर्फ 0.01 डबल स्टेमसेल्स के सेवन से )
    डबल स्टेमसेल्स शरीर को Vitality , u के cells को सुरक्षा , बाहरी वातावरण और Activate तनाव से बचाव और बढाती उम्र के प्रभाव से बचाता है और स्किन को Younger बनाता है .
    यह Anti-aging और पूर्ण रूप से सारे cells का regeneration करता है.
    आपके अवयवो के बेकार हो गए सेल्स का पुनः निर्माण करता है. जिससे आपके अवयव पूर्णरूप से ठीक होकर ठीक से काम करने लगते है और बिमारी का नामोनिशान मिट जाता है.
    Brain problems, Cancer, Diabetes जैसी अन्य सभी गंभीर बीमारियो से मुक्ति पाने के लिए Double Stemcell पूर्ण रूप से कारगर है. आप खुद ही इसके सेवन से 72 घंटो में बदलाव महसूस करेंगे. Diabetes से सड़ चुके घाव के कारण पैर काटने पड सकते थे पर Double Stemcell के सेवन से 48 घंटो में घाव भरने की प्रक्रिया शुरू हो गयी और रुग्ण पैर कटवाने से बच गया तथा Diabetes के कई रोगियों को इन्सुलिन लेने की आवश्यकता ख़त्म हो गयी. जिन्हे Heart disease है उनके Heart मजबूत होकर फिर अच्छी तरह कार्य करने लगे और वे सभी रुग्ण ऑपरेशन से बच गए. अभी वे Double Stemcell के साथ अपना स्वस्थ जीवन व्यतीत कर रहे है.
    अब आपको ही सोचना है की हमेशा महँगी गोलिया और महँगी फीस देकर बिमारी के साथ आपको जीना है या फिर Double Stemcell के साथ रोगमुक्त होकर आपको स्वस्थ जीवन जीना है.
    निःसंकोच होकर हमें निचे दिए हुवे नम्बरो पर अपना नाम और पता SMS करे. call & SMS : +919011990055

    प्रत्युत्तर द्याहटवा